ADVERTISEMENT

State Bank of India new plan’s for deposit money

  1. देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) one अक्टूबर 2019 से अपने सर्विस चार्ज में बदलाव करने जा रहा है। इसमें बैंक में रुपया जमा करना, रुपया निकालना, चेक का इस्तेमाल, एटीएम ट्रांजेक्शन से जुड़े सर्विस चार्ज शामिल हैं। सर्विस चार्ज में बदलाव के संबंध में एसबीआई ने अपनी वेबसाइट पर एक सर्कुलर भी जारी कर दिया है।
  2. एसबीआई जो सबसे बड़ा बदलाव करने जा रहा है उसमें बैंक खाते में रुपया जमा करना शामिल है। बैंक के सर्कुलर के अनुसार one अक्टूबर के बाद आप one महीने में अपने खाते में केवल three बार ही रुपया मुफ्त में जमा कर पाएंगे। यदि इससे ज्यादा बार रुपया जमा करते हैं तो प्रत्येक ट्रांजेक्शन पर fifty रुपए (जीएसटी अतिरिक्त) का चार्ज देना होगा।
  3. बैंक सर्विस चार्ज पर twelve फीसदी का जीएसटी वसूलता है। इस प्रकार जब आप चौथी, पांचवीं या ज्यादा बार रुपया जमा करेंगे तो आपको हर बार fifty six रुपए ज्यादा देने होंगे। आपको बता दें कि अभी किसी भी बैंक में खाते में रुपए जमा करने संबंधी कोई रोकटोक नहीं है। कोई भी व्यक्ति अपने खाते में महीने में कितनी ही बार कितना भी पैसा जमा कर सकता है।
  4. एसबीआई ने चेक रिटर्न के नियमों को भी कड़ा कर दिया है। बैंक के सर्कुलर के अनुसार one अक्टूबर के बाद कोई भी चेक किसी तकनीकी के कारण (बाउंस के अलावा) लौटता है तो चेक जारी करने वाले पर one hundred fifty रुपए और जीएसटी अतिरिक्त का चार्ज देना है। जीएसटी को मिलाकर यह चार्ज 168 रुपए होगा।
  5. एसबीआई ने रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (आरटीजीएस) पर लगने वाले चार्ज में राहत दी है। एक अक्टूबर से बैंक शाखा में जाकर आरटीजीएस करना सस्ता हो जाएगा। एक अक्टूबर से two से five लाख रुपए तक के आरटीजीएस पर twenty रुपए (जीएसटी अतिरिक्त) का चार्ज देना होगा। पांच लाख रुपए से ज्यादा की आरटीजीएस पर forty रुपए (जीएसटी अतिरिक्त) का चार्ज देना होगा। अभी यह two से five लाख रुपए तक के आरटीजीएस पर twenty five रुपए और five लाख से ऊपर के आरटीजीएस पर fifty रुपए का चार्ज देना पड़ता है।(एजेंसी)
ADVERTISEMENT